Skip to main content

जैन धर्म के अनुसार चार प्रकार के दान | 4 daan

जैन धर्म के अनुसार ४ दान बताए गए हैं। वे इस प्रकार हैं:

  1. आहार दान: उत्तम पात्र को भोजन इत्यादि खिलाना आहार दान कहलाता है।
  2. औषधि दान: संयमी को शारीरिक कष्ट आ जाने पर उसके निवारण करने हेतु दवाइयां इत्यादि इलाज औषधी दान कहलाता है।
  3. अभय दान: सुपात्रों को भय हो सकने की वस्तुओं का निवारण करना। आवास इत्यादि की व्यवस्था करना अभयदान कहलाता है।
  4. उपकरण दान: साधु साध्वियों को पिच्छिका-कमंडल, शास्त्र आदि दान करना उपकरण दान कहलाता है।

4 dan jain, four types of donation in jainism definition, ahar daan, औषधि दान, चारों दान में प्रसिद्ध किस-किस ने पाई, chautha Dan upadan? Upkaran/gyan


चारों दान में प्रसिद्ध कौन-कौन हुआ?

  1. आहार दान: राजा श्रेयांश ने आदिनाथ भगवान को आहार दान दिया।
  2. अभयदान: शूकर सिंह से मुनि महाराज को बचाते बचाते देवगती को प्राप्त हुआ।
  3. औषधी दान: सेठ पुत्री वृषभ सेना। श्री कृष्ण का मित्र वैद्यराज।
  4. उपकरण दान या ज्ञान दान:  गोविंद ग्वाला का सद्गति पाकर कौंडेश मुनि के पर्याय में श्रुतज्ञ बनना

Comments

Popular posts from this blog

सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज, भारत का इतिहास | British - The Magnificient Exploiters of India Hindi

  सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज इस पुस्तक के लेखक, इतिहासकार श्री सुरेंद्रनाथ गुप्त जी हैं।  इस पुस्तक में बताया गया है कि भारत अंग्रेजों से पहले कैसा था और कैसे अंग्रेजों ने भारत की बेतहाशा लूट की है। भारत के इतिहास की सर्वोत्तम पुस्तिका में से एक है यह सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज। यह पुस्तक आचार्य श्री के द्वारा भी हम सभी को प्रस्तावित है।  इस पुस्तक में भारत का स्वर्णिम इतिहास और उसमें होने वाले व्यापार के बारे में विस्तृत जानकारी दी गयी है और कैसे इस व्यापार को व्यवस्थित ढंग से तोड़ा गया इसके बारे में भी इस पुस्तक में वर्णन है। प्रस्तुत है सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज। Loading…

खादी का अर्थशास्त्र | Economics of Khaddar by Richard B Gregg PDF

  आर्थिक दृष्टि से देखने पर हम पाएंगे की सबसे बढ़िया व्यापार खादी का व्यापार है।  खादी का धंधा आपको सबसे ज्यादा समृद्धि दिला सकता है।  कैसे? यह जानने के लिए नीचे दी हुई किताब पढ़ें। रिचार्ड बार्लेट ग्रेग एक प्रचलित अमरीकी अर्थशास्त्री रहे हैं। 1924 के दौरान वे भारत आए थे। वे गांधीजी से प्रभावित थे। मार्टिन लूथर किंग जूनियर रिचार्ड बार्लेट ग्रेग से प्रभावित थे। मगनलाल गांधी और रिचार्ड बार्लेट ग्रेग साथ में।

हैंड स्पिनिंग एंड हैंड वीविंग निबंध | Hand Spinning and Hand Weaving - History of Clothing and Way Forward

  यदि आपको भारतीय कपड़ों के पूरे इतिहास के बारे में जानना है तो यह निबंध आपकी मदद कर सकता है। यह निबंध आपको विस्तृत तरीके से भारत के कपड़ों के इतिहास का ज्ञान देगा। यह निबंध अंग्रेजी में है, पर इसका हिंदी में अनुवाद भी हुआ है।  लगभग ढाई सौ पन्ने का यह निबंध आपको भारत के वस्त्रों के इतिहास के बारे में बताएगा। कैसे इस व्यापार को डुबाया गया यह भी बताएगा। और हम आगे भारत के इस प्राचीन वस्त्र उद्योग को बचाने के लिए क्या कर सकते हैं इसकी प्रेरणा भी देगा। करीब १९२५ में लिखा गया यह निबंध, उस समय संपूर्ण भारत में की गई एक प्रतियोगिता का नतीजा है। यह निबंध उस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान आया था। इसके निरीक्षक स्वयं महात्मा गांधी थे। प्रस्तुत है दो भारतीयों द्वारा लिखा गया हाथ कताई व हाथ बुनाई का वह निबंध अंग्रेजी भाषा में। Loading…