Skip to main content

अब दबवावत पांव | Kabke thake the sakhe

एक राजा हाथी-पर सवार होकर घूमने के बाद अपने महल को लौटा तो जहाँ तक हाथी जा सकता था, वहाँ तक हाथी पर बैठा रहा। फिर घोड़े पर सवार हुआ। फिर जहाँ से घोड़े की गति रुक गयी, वहाँ घोड़े से उतरकर पालकी में बैठा। फिर पालकी से उतर कर अपने पलंग पर लेट गया। वहाँ दासियाँ राजा के पांव दबाने लगीं। दो दासियाँ उस पर पंखा झुलाने लगीं। राजा को आराम से नीद आ गयी।

कुछ समय बाद एक दासी ने दूसरी से प्रश्न किया-

हाथी चढ़ घोड़े चढ्या,

घोड़े चढ़ सुख पाव।

कदका थाक्या हे सखी! 

अवै दबावै पाँव?



तपस्या की महिमा, Jabka thakya hai sake ab dabbavat paanv, Bhu sutya bhukha Marya kina ugra vihar tabke thake the sakhe so ab dabvave pav

दोहे के द्वारा राजा के पाँव दबवाने का कारण पूछा गया था। जो थकता है वही अपने पाँव दबवाता है। राजा तो हाथी पर और फिर घोड़े पर चढ़कर और उसके बाद पालकी पर चढ़कर उतरा है, थकने का कोई प्रसंग ही नहीं दीखता। दूसरी दासी ने पूर्वजन्मकृत तप की ओर संकेत करते हुए उत्तर दिया-

भू सूत्या भूखा मर्या, 

सह्या घणा सी ताप।

जदका थाक्या हे सखी! 

अबे दवावे पाँव।।

-जैन कल्याण कथा कोष

तपस्या English: austerity or penance

Comments

Popular posts from this blog

सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज, भारत का इतिहास | British - The Magnificient Exploiters of India Hindi

  सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज इस पुस्तक के लेखक, इतिहासकार श्री सुरेंद्रनाथ गुप्त जी हैं।  इस पुस्तक में बताया गया है कि भारत अंग्रेजों से पहले कैसा था और कैसे अंग्रेजों ने भारत की बेतहाशा लूट की है। भारत के इतिहास की सर्वोत्तम पुस्तिका में से एक है यह सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज। यह पुस्तक आचार्य श्री के द्वारा भी हम सभी को प्रस्तावित है।  इस पुस्तक में भारत का स्वर्णिम इतिहास और उसमें होने वाले व्यापार के बारे में विस्तृत जानकारी दी गयी है और कैसे इस व्यापार को व्यवस्थित ढंग से तोड़ा गया इसके बारे में भी इस पुस्तक में वर्णन है। प्रस्तुत है सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज। Loading…

खादी का अर्थशास्त्र | Economics of Khaddar by Richard B Gregg PDF

  आर्थिक दृष्टि से देखने पर हम पाएंगे की सबसे बढ़िया व्यापार खादी का व्यापार है।  खादी का धंधा आपको सबसे ज्यादा समृद्धि दिला सकता है।  कैसे? यह जानने के लिए नीचे दी हुई किताब पढ़ें। रिचार्ड बार्लेट ग्रेग एक प्रचलित अमरीकी अर्थशास्त्री रहे हैं। 1924 के दौरान वे भारत आए थे। वे गांधीजी से प्रभावित थे। मार्टिन लूथर किंग जूनियर रिचार्ड बार्लेट ग्रेग से प्रभावित थे। मगनलाल गांधी और रिचार्ड बार्लेट ग्रेग साथ में।

हैंड स्पिनिंग एंड हैंड वीविंग निबंध | Hand Spinning and Hand Weaving - History of Clothing and Way Forward

  यदि आपको भारतीय कपड़ों के पूरे इतिहास के बारे में जानना है तो यह निबंध आपकी मदद कर सकता है। यह निबंध आपको विस्तृत तरीके से भारत के कपड़ों के इतिहास का ज्ञान देगा। यह निबंध अंग्रेजी में है, पर इसका हिंदी में अनुवाद भी हुआ है।  लगभग ढाई सौ पन्ने का यह निबंध आपको भारत के वस्त्रों के इतिहास के बारे में बताएगा। कैसे इस व्यापार को डुबाया गया यह भी बताएगा। और हम आगे भारत के इस प्राचीन वस्त्र उद्योग को बचाने के लिए क्या कर सकते हैं इसकी प्रेरणा भी देगा। करीब १९२५ में लिखा गया यह निबंध, उस समय संपूर्ण भारत में की गई एक प्रतियोगिता का नतीजा है। यह निबंध उस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान आया था। इसके निरीक्षक स्वयं महात्मा गांधी थे। प्रस्तुत है दो भारतीयों द्वारा लिखा गया हाथ कताई व हाथ बुनाई का वह निबंध अंग्रेजी भाषा में। Loading…