Skip to main content

कबीर तू का तू | Tu ka tu Lyrics

Tu ka tu Lyrics| तू का तू

इनका भेद बता मेरे अवधू

अच्छी करनी कर ले तू

डाली फूल जगत के माही

जहाँ देखा वहां तू का तू


हाथी में हाथी बन बैठो

चींटी में है छोटो तू

होय महावत ऊपर बैठे

हांकन वाला तू का तू


चोरों के संग चोरी करता

बदमाशों में भेड़ो तू

चोरी करके तू भग जावे

पकड़ने वाला तू का तू


दाता के संग दाता बन जावे

भिखारी में भेड़ो तू

मंगतों होकर मांगन लागे

देने वाला तू का तू


नर नारी में एक विराजे

दो दुनिया में दिसे क्यूँ

बालक होकर रोवन लागे

राखन वाला तू का तू


जल थल जीव में तू ही विराजे

जहाँ देखूं वहां तू का तू

कहें कबीर सुनो भाई साधो

गुरु मिला है ज्यों का त्यों


Tu ka tu English lyrics

Inaka Bhed Bata Mere Avadhu

Achi Karni Kar Le Tu

Dali Phool Jagat Ke Mahi

Jahan Dekha Vahan Tu ka tu


Hati Me Hati Ban Baitho

Chinti Me Hain Chhoto Tu

Hoy Mahavat upar Baithe

Haankan Vala Tu ka tu


Choron Ke Sang Chori Karta

Badamaashon Mein Bhedo Tu

Chori Karke Tu Bhag Jaave

Pakadane wala Tu ka tu

Neeraj Arya's Kabir Cafe - Tu ka tu Lyrics meaning Prahlad Tipaniya, Kahat Kabir Suno Bhai Sadho, Kabir Bhajan achhi karni karle tu Dali phool Jagat


Data Ke Sang Data Ban Jave

Bhikhari Mein Bhedon Tu

Mangto Hokar Mangan Lage

Dene wala Tu ka tu


Nar Nari Mein Ek Viraje

Do Duniya Mein Dise Kyon 

Baalak Hokar Rovan Laage

Rakhan wala Tu ka tu


Jal Thal Jeev Mein Tu Hi Viraaje

Jahan Dekhu waha Tu ka tu

Kahen Kabir Suno Bhai Sadho

Guru Mila Hain Jyon Ka Tyon


Tu ka tu English meaning

Do you get the difference, o wise one!

You should always do good deeds

In flowers, branches, in this whole world

wherever i look, i see you only you.


In an elephant, you become an elephant

In an ant, there is little you

As Mahavat, you sit on top

the driver is you only you


With thieves you become a thief

You are in scoundrels too

You are the one who robs and runs

The cop who nabs is you only you.


With givers you become a giver

You are among the paupers too!

As a beggar you go begging

The donor too is you only you!


In man and woman only one resides

Who in this world could call them two

As a child, you start to cry

The keeper is you only you


In Water, Earth, Life you are present

Wherever i look, you only you!

Kabir says, listen sadhoos

I have found a guru, as is, where is


तू का तू कबीर दास हिन्दी अर्थ 

क्या तुम्हें फर्क समझ आया, हे बुद्धिमान! तुमको हमेशा अच्छे कर्म करने चाहिए फूलों में, शाखाओं में, इस सारे संसार में जिधर भी देखता हूँ, तू ही तू नजर आता है। 

हाथी में तुम हाथी बन जाते हो, एक चींटी में तुम छोटे ही हो। महावत के रूप में आप शीर्ष पर बैठते हैं, चालक तो आप ही हैं। 

चोरों के साथ तुम चोर बन जाते हो और बदमाशों में तुम ही लूटने और भागने वाले हो।

पकड़ने वाले पुलिसवाले सिर्फ तुम ही हो। 

दाताओं के साथ आप दाता बन जाते हैं आप भी कंगालों में से हैं! एक भिखारी के रूप में आप भीख मांगते हैं दाता भी तो तुम ही हो! 

स्त्री-पुरुष में एक ही का वास होता है। इस संसार में कौन उन्हें दो कह सकता है? एक बच्चे के रूप में, आप रोना शुरू कर देते हैं रखवाले तो तुम ही हो। 

जल, थल, जीवन में तुम विद्यमान हो। मैं जिधर भी देखता हूँ, तुम ही तुम हो! कबीर कहते हैं, सुनो साधुओ मुझे गुरु मिल गया, जैसे का वैसा।

Comments

Popular posts from this blog

सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज, भारत का इतिहास | British - The Magnificient Exploiters of India Hindi

  सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज इस पुस्तक के लेखक, इतिहासकार श्री सुरेंद्रनाथ गुप्त जी हैं।  इस पुस्तक में बताया गया है कि भारत अंग्रेजों से पहले कैसा था और कैसे अंग्रेजों ने भारत की बेतहाशा लूट की है। भारत के इतिहास की सर्वोत्तम पुस्तिका में से एक है यह सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज। यह पुस्तक आचार्य श्री के द्वारा भी हम सभी को प्रस्तावित है।  इस पुस्तक में भारत का स्वर्णिम इतिहास और उसमें होने वाले व्यापार के बारे में विस्तृत जानकारी दी गयी है और कैसे इस व्यापार को व्यवस्थित ढंग से तोड़ा गया इसके बारे में भी इस पुस्तक में वर्णन है। प्रस्तुत है सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज। Loading…

खादी का अर्थशास्त्र | Economics of Khaddar by Richard B Gregg PDF

  आर्थिक दृष्टि से देखने पर हम पाएंगे की सबसे बढ़िया व्यापार खादी का व्यापार है।  खादी का धंधा आपको सबसे ज्यादा समृद्धि दिला सकता है।  कैसे? यह जानने के लिए नीचे दी हुई किताब पढ़ें। रिचार्ड बार्लेट ग्रेग एक प्रचलित अमरीकी अर्थशास्त्री रहे हैं। 1924 के दौरान वे भारत आए थे। वे गांधीजी से प्रभावित थे। मार्टिन लूथर किंग जूनियर रिचार्ड बार्लेट ग्रेग से प्रभावित थे। मगनलाल गांधी और रिचार्ड बार्लेट ग्रेग साथ में।

हैंड स्पिनिंग एंड हैंड वीविंग निबंध | Hand Spinning and Hand Weaving - History of Clothing and Way Forward

  यदि आपको भारतीय कपड़ों के पूरे इतिहास के बारे में जानना है तो यह निबंध आपकी मदद कर सकता है। यह निबंध आपको विस्तृत तरीके से भारत के कपड़ों के इतिहास का ज्ञान देगा। यह निबंध अंग्रेजी में है, पर इसका हिंदी में अनुवाद भी हुआ है।  लगभग ढाई सौ पन्ने का यह निबंध आपको भारत के वस्त्रों के इतिहास के बारे में बताएगा। कैसे इस व्यापार को डुबाया गया यह भी बताएगा। और हम आगे भारत के इस प्राचीन वस्त्र उद्योग को बचाने के लिए क्या कर सकते हैं इसकी प्रेरणा भी देगा। करीब १९२५ में लिखा गया यह निबंध, उस समय संपूर्ण भारत में की गई एक प्रतियोगिता का नतीजा है। यह निबंध उस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान आया था। इसके निरीक्षक स्वयं महात्मा गांधी थे। प्रस्तुत है दो भारतीयों द्वारा लिखा गया हाथ कताई व हाथ बुनाई का वह निबंध अंग्रेजी भाषा में। Loading…