Skip to main content

सोलह कारण भावना | 16 Karan bhavnayen meaning

भावनाओं का मतलब

जिनका बार-बार चिंतन किया जाए उन्हें भावना कहते हैं। ऐसी 16 भावनाएं हैं जो तीर्थंकर प्रकृति का बंध करते हैं। वे इस प्रकार है:

दरश विशुद्धि भावना भाय, षोडष तीर्थंकर पद पाय, 
परम गुरु हो, जय जय नाथ परम गुरु हो।।
Tirthkar 16 Karan Bhavna Jain Darshan vishuddhi Bhavna, सोडष भावनाएं तत्त्वार्थसूत्र



जाने हुए अर्थ को पुन:-पुन: चिंतन करना भावना है।
-छुल्लक श्री जिनेंद्र वर्णी जी

तत्त्वार्थसूत्र के अनुसार १६ कारण भावना:

दर्शनविशुद्धिर्विनयसंपन्नता शीलव्रतेष्वनतीचारोऽभीक्ष्णज्ञानोपयोगसंवेगौ शक्तितस्त्यागतपसी साधुसमाधिर्वैयावृत्त्यकरणमर्हदाचार्यबहुश्रुतप्रवचनभक्तिरावश्यकापरिहाणिर्मार्गप्रभावना प्रवचनवत्सलत्वमिति तीर्थंकरत्वस्य।२४।

अर्थ: दर्शनविशुद्धि, विनयसंपन्नता, शील और व्रतों का अतिचार रहित पालन करना, ज्ञान में सतत उपयोग, सतत संवेग, शक्ति के अनुसार त्याग, शक्ति के अनुसार तप, साधुसमाधि, वैयावृत्त्य करना, अरहंतभक्ति, आचार्यभक्ति, बहुश्रुतभक्ति, प्रवचनभक्ति, षट् आवश्यक क्रियाओं को न छोड़ना, मोक्षमार्ग की प्रभावना और प्रवचनवात्सल्य ये तीर्थंकर नामकर्म के आस्रव हैं।

Comments

Popular posts from this blog

सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज, भारत का इतिहास | British - The Magnificient Exploiters of India Hindi

  सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज इस पुस्तक के लेखक, इतिहासकार श्री सुरेंद्रनाथ गुप्त जी हैं।  इस पुस्तक में बताया गया है कि भारत अंग्रेजों से पहले कैसा था और कैसे अंग्रेजों ने भारत की बेतहाशा लूट की है। भारत के इतिहास की सर्वोत्तम पुस्तिका में से एक है यह सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज। यह पुस्तक आचार्य श्री के द्वारा भी हम सभी को प्रस्तावित है।  इस पुस्तक में भारत का स्वर्णिम इतिहास और उसमें होने वाले व्यापार के बारे में विस्तृत जानकारी दी गयी है और कैसे इस व्यापार को व्यवस्थित ढंग से तोड़ा गया इसके बारे में भी इस पुस्तक में वर्णन है। प्रस्तुत है सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज। Loading…

खादी का अर्थशास्त्र | Economics of Khaddar by Richard B Gregg PDF

  आर्थिक दृष्टि से देखने पर हम पाएंगे की सबसे बढ़िया व्यापार खादी का व्यापार है।  खादी का धंधा आपको सबसे ज्यादा समृद्धि दिला सकता है।  कैसे? यह जानने के लिए नीचे दी हुई किताब पढ़ें। रिचार्ड बार्लेट ग्रेग एक प्रचलित अमरीकी अर्थशास्त्री रहे हैं। 1924 के दौरान वे भारत आए थे। वे गांधीजी से प्रभावित थे। मार्टिन लूथर किंग जूनियर रिचार्ड बार्लेट ग्रेग से प्रभावित थे। मगनलाल गांधी और रिचार्ड बार्लेट ग्रेग साथ में।

हैंड स्पिनिंग एंड हैंड वीविंग निबंध | Hand Spinning and Hand Weaving - History of Clothing and Way Forward

  यदि आपको भारतीय कपड़ों के पूरे इतिहास के बारे में जानना है तो यह निबंध आपकी मदद कर सकता है। यह निबंध आपको विस्तृत तरीके से भारत के कपड़ों के इतिहास का ज्ञान देगा। यह निबंध अंग्रेजी में है, पर इसका हिंदी में अनुवाद भी हुआ है।  लगभग ढाई सौ पन्ने का यह निबंध आपको भारत के वस्त्रों के इतिहास के बारे में बताएगा। कैसे इस व्यापार को डुबाया गया यह भी बताएगा। और हम आगे भारत के इस प्राचीन वस्त्र उद्योग को बचाने के लिए क्या कर सकते हैं इसकी प्रेरणा भी देगा। करीब १९२५ में लिखा गया यह निबंध, उस समय संपूर्ण भारत में की गई एक प्रतियोगिता का नतीजा है। यह निबंध उस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान आया था। इसके निरीक्षक स्वयं महात्मा गांधी थे। प्रस्तुत है दो भारतीयों द्वारा लिखा गया हाथ कताई व हाथ बुनाई का वह निबंध अंग्रेजी भाषा में। Loading…