Skip to main content

Can make due meaning

Make due meaning: 

to make the best use of whatever is provided in the unsuitable situation.

Make due Synonym 

Make do. Make due is the Eggcorn of make do.

Make due usage in a sentence 

All companies can make due in a bad economy if they have a rainy day fund or plan to combat the harsh environment.

Comments

Popular posts from this blog

सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज, भारत का इतिहास | British - The Magnificient Exploiters of India Hindi

  सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज इस पुस्तक के लेखक, इतिहासकार श्री सुरेंद्रनाथ गुप्त जी हैं।  इस पुस्तक में बताया गया है कि भारत अंग्रेजों से पहले कैसा था और कैसे अंग्रेजों ने भारत की बेतहाशा लूट की है। भारत के इतिहास की सर्वोत्तम पुस्तिका में से एक है यह सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज। यह पुस्तक आचार्य श्री के द्वारा भी हम सभी को प्रस्तावित है।  इस पुस्तक में भारत का स्वर्णिम इतिहास और उसमें होने वाले व्यापार के बारे में विस्तृत जानकारी दी गयी है और कैसे इस व्यापार को व्यवस्थित ढंग से तोड़ा गया इसके बारे में भी इस पुस्तक में वर्णन है। प्रस्तुत है सोने की चिड़िया और लुटेरे अंग्रेज। Loading…

खादी का अर्थशास्त्र | Economics of Khaddar by Richard B Gregg PDF

  आर्थिक दृष्टि से देखने पर हम पाएंगे की सबसे बढ़िया व्यापार खादी का व्यापार है।  खादी का धंधा आपको सबसे ज्यादा समृद्धि दिला सकता है।  कैसे? यह जानने के लिए नीचे दी हुई किताब पढ़ें। रिचार्ड बार्लेट ग्रेग एक प्रचलित अमरीकी अर्थशास्त्री रहे हैं। 1924 के दौरान वे भारत आए थे। वे गांधीजी से प्रभावित थे। मार्टिन लूथर किंग जूनियर रिचार्ड बार्लेट ग्रेग से प्रभावित थे। मगनलाल गांधी और रिचार्ड बार्लेट ग्रेग साथ में।

हैंड स्पिनिंग एंड हैंड वीविंग निबंध | Hand Spinning and Hand Weaving - History of Clothing and Way Forward

  यदि आपको भारतीय कपड़ों के पूरे इतिहास के बारे में जानना है तो यह निबंध आपकी मदद कर सकता है। यह निबंध आपको विस्तृत तरीके से भारत के कपड़ों के इतिहास का ज्ञान देगा। यह निबंध अंग्रेजी में है, पर इसका हिंदी में अनुवाद भी हुआ है।  लगभग ढाई सौ पन्ने का यह निबंध आपको भारत के वस्त्रों के इतिहास के बारे में बताएगा। कैसे इस व्यापार को डुबाया गया यह भी बताएगा। और हम आगे भारत के इस प्राचीन वस्त्र उद्योग को बचाने के लिए क्या कर सकते हैं इसकी प्रेरणा भी देगा। करीब १९२५ में लिखा गया यह निबंध, उस समय संपूर्ण भारत में की गई एक प्रतियोगिता का नतीजा है। यह निबंध उस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान आया था। इसके निरीक्षक स्वयं महात्मा गांधी थे। प्रस्तुत है दो भारतीयों द्वारा लिखा गया हाथ कताई व हाथ बुनाई का वह निबंध अंग्रेजी भाषा में। Loading…